पंच केदार, उत्तराखंड

0 Comments

जाने पंच केदारकौन है औरयह कहाँ है

जो लोग एकयात्रा में पंचकेदार की यात्राकरने के इच्छुकहैं, उन्हें निम्नलिखितट्रेकिंग मार्ग की सलाहदी जाती है।यह यात्रा आदर्शहै यदि श्रीकेदारनाथजी से शुरूकिया जाए। इसट्रैकिंग मार्ग पर, बहुतसारे अन्य स्थानहैं जो मार्ग(मार्ग से थोड़ादूर) हैं, जिन्हेंयाद नहीं कियाजाना चाहिए।
यह सब इसबात पर निर्भरकरता है किकिसी के पासकितना समय औरआत्मविश्वास है। उदाहरणके लिए, गुप्तकाशीसे मध्यमहेश्वर कीयात्रा पूरी करनेके बाद, कोईभी देवरीताल कीयात्रा कर सकताहै, जिसमें केवलएक दिन शामिलहोता है औरफिर तुंगनाथ केलिए रवाना होताहै।
इस ट्रेक पर जानेवाले अन्य स्थानोंमें नैला, नारायणकोटी, चंद्रशिला पीक, अनुसूयादेवी मंदिर, बंसीनारायण आदि हैं।इन मार्गों केविवरण, नीचे दिएगए ट्रेक सेभी दिए गएहैं।
पंच केदार ट्रेक 10 से12 दिनों में पूराकिया जा सकताहै। यह आपकीजानकारी के लिएहै कि पहाड़ीसड़क, ओखीमठ सेगोपेश्वर तक सभीमौसम वाली सड़केंनहीं हैं औरकुंड और गोपेश्वरके अलावा कोईभी पेट्रोल पंपया मरम्मत सुविधामौजूद नहीं है।
सुबह गुप्तकाशी से शामको चमोली पहुंचनेवाली एक स्थानीयबस को छोड़करकोई नियमित परिवहनउपलब्ध नहीं है।अपने स्वयं केपरिवहन के लिएबेहतर है, अधिमानतःअपने स्वयं केनिपटान पर जीप।
यहाँ और वहाँछोटी छोटी चटाइयाँ/ ढाबे सड़क किनारेस्थित हैं जहाँचाय और खाद्यपदार्थ उपलब्ध हैं। इसट्रेक के लिएआपकी स्वयं कीभोजन व्यवस्था, टेंटऔर गाइड कीसेवा उचित है।

पंच केदार

 पंचया पाँचकेदार भागीरथी औरअलकनंदा नदियों के बीचकेदार घाटी मेंस्थित हैं। एकपौराणिक कथा केअनुसार, महाभारत के युद्धके बाद, पांडवोंने अपने चचेरेभाइयों कौरवों की हत्याओंका पश्चाताप कियाऔर भगवान शिवसे क्षमा मांगनेके लिए यहांआए। 

लेकिन, शिवउन्हें माफ करनेके लिए तैयारनहीं थे क्योंकिवे गोत्र हत्याके दोषी थे।उन्होंने केदारनाथ में एकबैल के रूपमें, मद्महेश्वर मंदिरको खंडित करदिया, लेकिन जबपांडवों ने एकबैल के रूपमें भगवान कोपहचान लिया, तोवे अपने कूबड़के पीछे जमीनमें डूब गए, जिसकी पूजा केदारनाथमंदिर में कीजाती है। 

मानाजाता है किउनकी भुजाएं तुंगनाथमें, रुद्रनाथ मेंउनका चेहरा, मदमहेश्वरमें नाभि, उनकेउलझे हुए बालऔर कल्पेश्वर मेंसिर दिखाई दिया।गढ़वाल के इनपाँच सबसे पवित्रशिव मंदिरों कोपंच केदार कहाजाता है।

केदारनाथ

श्री केदारनाथ मंदिर उत्तराखंड

पहला और सबसे महत्वपूर्ण केदारनाथजी का प्रसिद्ध मंदिर है, जो अपनी असाधारण पवित्रता के लिए व्यापक रूप से जाना जाता है।

यहाँ केदारनाथ में शिव को भैंस के कूबड़ के रूप में पूजा जाता है जो पहले से ही श्री केदारनाथ खंड में संदर्भित है।

शिव के शरीर के अन्य भाग -हाथ, चेहरा, नाभि और बाल तुंगनाथ, रुद्रनाथ, मध्यमहेश्वर और कल्पेश्वर में दिखाई दिए। श्री केदारनाथ जी के साथ इन चार स्थानों को पंच केदार के रूप में जाना जाता है।

मदमहेश्वर

 

मध्यमहेश्वर मंदिर उत्तराखंड

चौखम्बा चोटी केआधार पर 3,289 मीटरकी ऊँचाई परस्थितदूसरा केदारमानाजाने वाला सुरम्यपवित्र स्थल है।कहा जाता हैकि भगवान शिवकी नाभि यहाँफिर से प्रकटहुई है औरशिव की पूजानाभि के आकारवाले लिंगम केरूप में कीजाती है। 

यहांका पानी बहुतपवित्र माना जाताहै और केवलकुछ बूंदें हीशरीर और आत्माकी शुद्धि केलिए पर्याप्त हैं।बर्फ से ढकेपहाड़ों के बीचतीर्थ स्थल अपनीप्राकृतिक सुंदरता के लिएभी जाना जाताहै। 

केदारनाथ औरनीलकण्ठ की चोटियाँयहाँ से दिखाईदेती हैं औरगौंडर में मदमहेश्वरगंगा और मार्कण्डागंगा का संगमपास में स्थितहै। सर्दियों केदौरान मदमहेश्वर मंदिरऔर मूर्तियों कोऔपचारिक रूप सेहर रोज पूजाके लिए ऊखीमठले जाया जाताहै।

कैसे पहुंचा जाये

हवाई अड्डा: जॉली ग्रांट(244 किमी।)
रेलहेड: ऋषिकेश (227 किमी)
सड़क मार्ग: मदमहेश्वर लगभग25 कि.मी. गुप्तकाशीके उत्तरपूर्वमें। गुप्तकाशी सेकालीमठ तक सड़कद्वारा पहुँचा जा सकताहै, जो 196 किमीहै। ऋषिकेश से।कालीमठ से 31 किमीकी ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है।

तुंगनाथ

तुंगनाथ मंदिर उत्तराखंड
चंद्रनाथ परबत में3,680 मीटर की ऊंचाईपर स्थित पवित्रतुंगनाथ मंदिर पंच केदारमें सबसे ऊंचामंदिर है औरउस स्थान कोचिह्नित करता हैजहां भगवान शिवका हाथ दिखाईदिया था। 16 दरवाजोंवाले गुंबद वालेभव्य मंदिर मेंएक शिवलिंग औरआदि गुरु शंकराचार्यकी मूर्ति है।

नंदादेवी का मंदिरतुंगनाथ में एकऔर महत्वपूर्ण मंदिरहै। तुंगनाथ केशिखर को बहुतपवित्र माना जाताहै क्योंकि यहतीन राजकुमारों कास्रोत है जोआकाशकामिनी नदी कानिर्माण करते हैं।अद्भुत आकाशलिंग झरना कास्थान वास्तव मेंशानदार है, क्योंकियह सीधे स्वर्गसे उतरता है। 

तुंगनाथ का मंदिरसर्दियों के दौरानबंद हो जाताहै और पुजारीलगभग 19 किमी कीदूरी पर स्थितमुकुनाथ तक जातेहैं। चंद्रशिला याचंद्र पर्वतका मंदिरतुंगनाथ के पासएक और दर्शनीयस्थल है। 

चंद्रशिलाका सुंदर ट्रेकप्राकृतिक परिवेश से गुजरताहै और मंदिरसे लगभग 1 घंटेका समय लेताहै।

कैसे पहुंचा जाये

हवाई अड्डा: जॉलीग्रांट (232 किमी।)
रेलहेड: ऋषिकेश (215 किमी।)
सड़क: कुंडगोपेश्वर रोडपर निकटतम सड़कप्रमुख चोपता (3 किमी।) है। तुंगनाथ ऊखीमठ से 37 किमीहै

रुद्रनाथ मन्दिर

रुद्रनाथ मंदिर उत्तराखंड
कहा जाता हैकि भगवान शिवका मुख यहाँपर है, जिसकीपूजा 2,286 मीटर कीऊँचाई पर स्थितरुद्रनाथ के मंदिरमें की जातीहै। एक सुंदरघास के मैदानमें। 

मंदिर सूर्यकुंड, चंद्र कुंड, तारा कुंड, मानसकुंड आदि जैसेकई पवित्र कुंडोंसे घिरा हुआहै और विशालनंदादेवी, त्रिशूल और नंदाघुन्ती चोटियों की पृष्ठभूमिहै। 

यह मानाजाता है किदिवंगत आत्माएं वैतरणी नदी(मोक्ष का पानी) को दूसरी दुनियामें प्रवेश करनेसे पहले यहांबहती हैं। इसप्रकार, भक्त अपनेपूर्वजों के लिएअनुष्ठान की पेशकशकरने के लिएरुद्रनाथ जाते हैं।रुद्रनाथ पहले 5 किमी दूरगोपेश्वर (23 किमी) के माध्यमसे पहुंचा जासकता है। 

मोटरयोग्य हैं औरएक को शेष18 किमी की ट्रेकिंगकरनी है। शानदारप्राकृतिक सुंदरता के साथसंपन्न है। एक3 कि.मी. रुद्रनाथमंदिर से ट्रेक, अनुसूयादेवी के मंदिरकी ओर जाताहै।

कैसे पहुंचा जाये

हवाई अड्डा: जॉली ग्रांट, देहरादून (258 किमी।)
रेलहेड: ऋषिकेश (241 किमी।)
सड़क मार्ग: रुद्रनाथ गोपेश्वरकेदारनाथ मार्ग पर स्थितहै। यह 22 कि.मी. सागरसे ट्रेक, जो ऋषिकेश से 219 किमी है। 

कल्पेश्वर

कल्पेश्वर मंदिर उत्तराखंड
कल्पेश्वर या कल्पनाथ, एक पंच केदारस्थल जहाँ भगवानशिव के खूंखारखंभे दिखाई दिएहैं। भक्त कल्पेश्वरके छोटे सेकटे हुए मंदिरमें पूजा करतेहैं, जिसके बारेमें माना जाताहै कि यहभगवान शिव केकेशों को धारणकरता है। 

पौराणिककिंवदंतियों का सुझावहै कि ऋषिअर्घ्य ने यहांकठिन तपस्या कीऔर उर्वशी कोआकाशीय अप्सरा बनाया। पौराणिकऋषि दुर्वाशा नेभी कल्पवृक्ष यामनोकामना पूर्ण करने वालेवृक्ष के नीचेध्यान लगाया है।ऋषि दुर्वाशा नेआशीर्वाद दिया था

पांडवों की मांकुंती, प्रकृति की किसीभी शक्ति कोआह्वान करने औरजो भी वहचाहती है उसेपाने की शक्ति] इस प्रकार, संतोंके बीच यहस्थान बहुत लोकप्रियहै जो ध्यानऔर शांति कीप्रार्थना करना चाहतेहैं। 

एक नदीके तट परस्थित मंदिर, जोकि एक प्राकृतिकगुफा के पहलेसे है औरप्राकृतिक परिवेश के मनोरमदृश्य प्रस्तुत करताहै।

कैसे पहुंचा जाये

हवाई अड्डा: जॉली ग्रांट, देहरादून (272 किमी)

रेलहेड: ऋषिकेश 255 किमी।

सड़क: हेलंग, ऋषिकेश पर243 किमीबद्रीनाथ सड़क का अंतिममोटरहेड है औरबसों और टैक्सियोंद्वारा पहुंचा जा सकताहै। यहाँ सेकल्पेश्वर मुख्य सड़क से 12 किमी दूर है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *