जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

0 Comments

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क
जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क
जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कका नाम प्रसिद्धबाघ शिकारी प्रकृतिवादीऔर संरक्षणवादीजिमकॉर्बेटके नामपर रखा गयाहै, जिनका जन्मकुमाऊँ हिमालय के नैनीतालमें हुआ था।यह भारत कासबसे पुराना वन्यजीवअभयारण्य है और1200 वर्ग किलोमीटर में फैलाहुआ है। कॉर्बेटनेशनल पार्क रॉयलबंगाल टाइगर केलिए जाना जाताहै और जाहिरतौर पर भारतमें प्रतिष्ठित प्रोजेक्टटाइगर के लिएलॉन्चपैड के रूपमें जाना जाताहै। 

घने उपहिमालयी जंगल, रामगंगानदी पार्क केमाध्यम से बहतीहै और शिकारकी एक बहुतायतइसे भारतीय टाइगरके लिए एकआदर्श घर बनातीहै। उपहिमालयीबेल्ट में स्थित, पार्क एक प्रसिद्धइकोपर्यटन स्थलभी है। 

रॉयलबंगाल टाइगर (पैंथेराटाइग्रिस) के अलावा, हाथी, चीतल, सांभर, नीलगाय, घड़ियाल, किंग कोबरा, मंटजैक, जंगली सूअर, हेजहोग, आम कस्तूरी काशर्बत, फ्लाइंग फॉक्स, इंडियनपैंगोलिन इसके मुख्यआकर्षण हैं। एविफ़ुनाकी लगभग 600 प्रजातियोंके साथ, कॉर्बेटशायद भारत केसबसे अमीर पक्षीअभयारण्यों में सेएक है।
 

रॉयल बंगाल टाइगर
रॉयल बंगाल टाइगर


कॉर्बेट नेशनल पार्क उत्तराखंडराज्य में कुमाऊंकी तलहटी मेंस्थित है, जोदो जिलों केहिस्सों में फैलाहै, पार्क काएक हिस्सा पौड़ीगढ़वाल जिले मेंऔर शेष नैनीतालजिले में पड़ताहै। पार्क मेंकालागढ़ और रामनगरवन प्रभागों केहिस्से हैं। 

कॉर्बेटलंबे समय सेपर्यटकों और वन्यजीवप्रेमियों के लिएएक हैंगआउट रहाहै। कॉर्बेट टाइगररिजर्व के चयनितक्षेत्रों में पर्यटनकी अनुमति हैताकि लोगों कोइसके शानदार परिदृश्यऔर यहां रहनेवाले विविध वन्यजीवोंको देखने कामौका मिले। हालके वर्षों मेंयहां आने वालेलोगों की संख्याभारत और विदेशोंसे नाटकीय रूपसे बढ़ी है।
पार्क मानसून के मौसम(मध्य जून सेमध्यनवंबर) केलिए बंद होजाता है। हालांकि, पार्क के आसपासके अधिकांश होटलइस अवधि केदौरान यात्रा करनेके इच्छुक लोगोंके लिए खुलेरहते हैं, औरबारिश के मौसममें तलहटी केअनोखे अनुभव काआनंद लेते हैं।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कहिस्ट्री

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क का नक्शा
कॉर्बेट का नक्शा

प्रारंभ में, जिमकॉर्बेट नेशनल पार्क रिजर्वको 1936 मेंहैलीनेशनल पार्ककेरूप में नामितकिया गया था।जिम कॉर्बेट नेशनलपार्क को 1954-55 मेंरामगंगा नेशनल पार्कऔर1955-56 में जिम कॉर्बेटके बादजिमकॉर्बेट नेशनल पार्कनामदिया गया था।बाघों का शिकारकिसने किया, जो1907 और 1939 के बीचआदमखोर बन गयाथा। 

जिम कॉर्बेटनेशनल पार्क इंडिया, भारत का पहलाऔर सबसे पुरानानेशनल पार्क है, जो 1973 में प्रोजेक्टटाइगर की मददसे बनाए गएनौ टाइगर रिज़र्वमें से एकहै 1 अप्रैल 1973 कोविश्व वन्यजीव कोष।
जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कइसके आसपास के क्षेत्रमें दो संरक्षितक्षेत्र हैं, जैसेजिम कॉर्बेट नेशनलपार्क और सोननदीवन्यजीव अभयारण्य। 

कॉर्बेट नेशनलपार्क का मूलक्षेत्र 323.75 वर्ग किमीथा। जिसे बादमें 1966.07 वर्ग किमीमें जोड़ा गयाथा। 1991 में, एन।कॉर्बेट टाइगर रिज़र्व केबफर ज़ोन केरूप में 797.72 वर्गकिमी के क्षेत्रको जोड़ा गयाथा। कॉर्बेट नेशनलपार्क हर सालहजारों आगंतुकों को आकर्षितकरता है। आगंतुकोंकी सुविधा केलिए, जिम कॉर्बेटनेशनल पार्क कोपांच पर्यटन क्षेत्रोंमें विभाजित कियागया है। प्रत्येकक्षेत्र में इसकीअलग प्रविष्टि है।

कॉर्बेट नियम औरविनियम


संबंधित गेट सेअनुमति मिलने के बादपर्यटक अपने निजीवाहनों को पार्कमें ले जासकते हैं। लेकिनकॉर्बेट मानदंडों के अनुसार, आपके पास एकस्थानीय टूर गाइडहोना चाहिए। रामनगरसे आगे कोईईंधन स्टेशन नहींहै। 
रामनगर गाँव
रामनगर गाँव

इसलिए पार्कमें प्रवेश करनेसे पहले अपनेवाहनों को ईंधनभरवाना चाहिए। कुछ निश्चितस्थानों को छोड़करपार्क के अंदरट्रेकिंग को पूर्णरूप से प्रतिबंधितकिया गया है।कॉर्बेट का आनंदलेने के लिएआगंतुकों के लिएविशिष्ट ट्रैक बनाए रखाजाता है औरसुरक्षा कारणों से ट्रैकऑफ ड्राइविंग कीअनुमति नहीं है। Gates , सूर्यास्त परबंद कर दिएजाते हैं औररात में ड्राइविंगकी अनुमति नहींहै। 

बाघ अभ्यारण्यके भीतर किसीभी प्रकार कीआग्नेयास्त्रों की अनुमतिनहीं है। इसपार्क के अंदरकोई पालतू जानवरनहीं ले जायाजा सकता है।आगंतुकों को टाइगररिजर्व में प्रवेशकरने के दौरानकूड़े के थैलेको ले जानेऔर रिजर्व केबाहर अपने गैरबायोडिग्रेडेबल कूड़े (टिन केडिब्बे, प्लास्टिक, कांच कीबोतलें, धातु कीपन्नी, आदि) लानेकी आवश्यकता होतीहै। 

टाइगर रिजर्वके अंदर कूड़ेके डिब्बे केअलावा कूड़े कोफेंकने पर कड़ीसजा मिलेगी। आवासीयपरिसर / विश्राम गृह केबाहर धूम्रपान करनाऔर किसी भीप्रकार की आगजलाना सख्त वर्जितहै। बिना परमिटके मछली पकड़नाप्रतिबंधित है। परमिटके साथ मछलीपकड़ने केवल कॉर्बेटनेशनल पार्क औरसोननदी वन्यजीव अभयारण्य केबाहर के क्षेत्रोंमें किया जासकता है। 
टाइगर, जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क
टाइगर 

टाइगररिजर्व के भीतरट्रांजिस्टर और टेपरिकार्डर बजाना पूर्णतः प्रतिबंधितहै। हॉर्न बजानाऔर गति सीमासे ऊपर ड्राइविंगटाइगर रिजर्व केभीतर पूरी तरहसे निषिद्ध है।चीखना, चिढ़ाना, जानवरों कापीछा करना याउन्हें खिलाने का प्रयासनिषिद्ध है औरकड़ी सजा कानिमंत्रण देगा। टाइगर रिजर्वके भीतर रहनेकी जगह छोड़नेसे पहले आगंतुकोंको अनिवार्य रूपसे निकासी प्रमाणपत्रप्राप्त करना आवश्यकहै। 

कॉर्बेट टाइगररिजर्व द्वारा आयोजित यात्राओंको छोड़कर ढिकालापर्यटन क्षेत्र में दिनकी यात्रा कीअनुमति नहीं है।बिजरानी पर्यटन क्षेत्र मेंनिजी बसों काप्रवेश निषिद्ध है। परमिटकेवल तीन दिनऔर दो रातके लिए जारीकिए जाते हैं। 

बिना पास केया बिना टाइगररिजर्व में प्रवेशकरना आगंतुकों केअपने जोखिम परहै। परमिट जारीहोने के बाद, परमिट हस्तांतरणीय नहींहै और राशिवापसी योग्य नहींहै। पार्क केअंदर मांसाहारी भोजनऔर शराब काउपयोग वर्जित है।

वस्त्र

ग्रीष्मकालीन कपडे 

कॉर्बेट के साथ आपको जो कपड़ा लेना चाहिए, वह उस मौसम पर निर्भर करता है, जिसमें आप इसे देख रहे हैं। ग्रीष्मकाल (अप्रैल और मध्य जुलाई) अत्यधिक गर्म होते हैं, तापमान दिन में 32 से 48 डिग्री सेंटीग्रेड के बीच बढ़ जाता है, यहां तक ​​कि टी-शर्ट का सबसे हल्का गर्म जैकेट की तरह महसूस होता है इसलिए अपने हल्के कपड़े एक टोपी और यूवी काले चश्मे के साथ लें। 

सर्दियों के ट्रेकिंग के कपड़े

सर्दियों के महीनों में, विशेष रूप से नवंबर से फरवरी तक, मौसम बिल्कुल विपरीत होता है। सफेद, गुलाबी, लाल, पीले और नीले जैसे हल्के रंगों से बचें। आपको गहरे रंग के छायांकित कपड़े पहनने चाहिए जैसे कि खाकी भूरा, जैतून हरा, अन्य सुस्त रंग के कपड़े जानवरों को देखने और पर्यावरण को कम परेशान करने के लिए सबसे उपयुक्त हैं। 

पार्क में मॉर्निंग सफारी ड्राइव ठंडी होती हैं; परतों में कपड़े को दस्ताने की एक जोड़ी के साथ इस्तेमाल किया जाना चाहिए और मफलर एक होना चाहिए। जो लोग सुबह में तस्वीरें खींचना चाहते हैं, उनके लिए दस्ताने की एक जोड़ी लें जो अभी तक गर्म हो और हाथों की पर्याप्त गति प्रदान करें।

मुझे क्या लेजाना चाहिए?

अच्छे ट्रेकिंग जूते, हल्के मोजे, डेपैक, धूप काचश्मा, स्पेयर बल्ब औरबैटरी के साथटॉर्च, लिप बाम, कीट से बचानेवाली क्रीम, डायरी, पॉकेट नाइफ, टाईकॉर्ड, सिलाई किट, मलहम, दूरबीन, कैमरा, फिल्म औरपर्सनल मेडिकल किट। अतिरिक्तकैमरा फिल्म / डिजिटलकार्ड ले जानाचाहिए।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कतथ्य


कोर एरिया: 520.82 वर्ग किमी
बफर क्षेत्र: 797.72 वर्ग किमी
कुल क्षेत्रफल: 1318.54 वर्ग किमी
ऊंचाई: 365 मीटर – 1100 मीटर
वार्षिक वर्षा: 1400-2800 मिमी।
तापमान: 4 ° C (सर्दी), 42 ° C (गर्मी)
मुख्य प्रवेश: धनगरी
मुख्य केंद्र: ढिकाला

एंट्री गेट
एंट्री गेट
बेस्ट टाइमिंग
ढिकाला
धनगरी
15 नवंबर से 15 जून
डोमुंडा
दुर्गा देवी
15 अक्टूबर से 30 जून
सोनानदी
वतनवास
15 अक्टूबर से 30 जून
बिजारणी
अमांडा
15 अक्टूबर से 30 जून
झिरना खारा
कालागढ़
राउंड ईयर

रामनगर से जिमकॉर्बेट नेशनल पार्क मेंविभिन्न स्थानों की दूरीहै:

रामनगर से जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में विभिन्न स्थानों
दूरी
रामनगर से अमांडा गेट
2 किमी
रामनगर से बिजरानी गेट
11 किमी
रामनगर से बिजरानी गेट
11 किमी
रामनगर से धनगढ़ी गेट
18 किमी
रामनगर से मैलानी गेट
23 कि.मी.
रामनगर से झिरना गेट
25 कि.मी.
रामनगर से दुर्गादेवी गेट
26 किमी
रामनगर से गेराल गेट
37 किमी
रामनगर से सर्पदुली गेट
38 किमी
रामनगर से लोहाचौर गेट
43 कि.मी.
रामनगर से कालागढ़ गेट
45 कि.मी.
रामनगर से खिन्नौली गेट
46 किमी
रामनगर से ढिकाला
51 किमी

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कमें दर्शनीय स्थल


1: गर्जियामंदिर

गर्जिया मंदिर

गर्जिया मंदिर

14 किमी रामनगर से रानीखेतके रास्ते पर, कोसी नदी केबीच में एकविशाल चट्टान है।शिखर पर, गरजियादेवी के नामसे दुर्गा देवीका एक सुंदरमंदिर है। प्रत्येकपर्यटक यात्रा कार्यक्रम मेंमुख्य एजेंडा गाज़ियामंदिरकुमाऊँनी वन कासबसे अधिक देखाजाने वाला स्थानकोसी नदी सेघिरी पहाड़ी परस्थित मंदिर है।यह कॉर्बेट पार्कमें स्नान, बास्किंग, पूजा और दोपहरके भोजन केलिए एक अच्छीजगह है।

2: कॉर्बेटफॉल

कॉर्बेट फाल्स
कॉर्बेट फाल्स 

रामनगर से 25 किमी / कालाढूंगीसे 4 किमी, कॉर्बेटफॉल रामनगर वनप्रभाग के जंगलमें स्थित हैऔर सड़क केकिनारे से 1.5 किमी दूरहै। जेड ग्रीनफॉल के साथकॉर्बेट के परिधिक्षेत्र के इसखूबसूरत स्थान की यात्राएक सुखद यात्राहै। यह गर्मीके मौसम मेंप्रकृतिप्रेमी पर्यटकों केलिए स्वर्ग जैसाहै। 

यह अपनेप्राकृतिक वातावरण के कारणपर्यटकों को आकर्षितकरता है। यहएक प्राकृतिक झरनाहै और कईपर्यटक शांतिपूर्ण क्षणों केलिए वहां आतेहैं। ऊँचाई सेशांत साफ पानीका झरना एकसुंदरता की प्रशंसाकरने योग्य है।झरने के आसपासका विस्तृत क्षेत्रपार्किंग की बहुतअच्छी सुविधा प्रदानकरता है।

3: नेचर वॉक म्यूजियम

नेचर वॉक,जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क
नेचर वॉक

पास का एकआकर्षणनेचर वॉकसंग्रहालय है, जहांकोई भी अपनीआदिम शैली मेंशुद्ध प्रकृति काअनुभव कर सकताहै। कॉर्बेट फॉल्स में प्रवेश शुल्क बच्चों के लिए 5.00 रुपये, वयस्कों के लिए 50.00 रुपये और चार पहिया वाहन के लिए 100.00 रुपये है। फ़ोटोग्राफ़ी की अनुमतिनिःशुल्क है। स्नानकरने की अनुमतिहै लेकिन फिसलनकाईइकट्ठापत्थरों से सावधानरहें क्योंकि वेआपको पर्ची बनासकते हैं। 

धनगरहीसंग्रहालय (रामनगर से 19 किलोमीटर) रामनगररानीखेत मार्ग परस्थित है। यहांआप कॉर्बेट पार्कके फूलों औरजीवों के बारेमें शैक्षिक विवरणदेखेंगे जिसमें प्राकृतिक रूपसे मृत जानवरोंकी ट्राफियां यानिटाइगर, तेंदुआ, टस्कर, हिरण, सांभर और मगरमच्छआदि शामिल हैं।

4: कॉर्बेटहाउस / संग्रहालय

कॉर्बेट हाउस from tripadvisor

कालाढूंगी शहर सेलगभग 3 किमी दूरनैनीताल की ओरजाने के बाद, चौराहे के सामनेसे, जहां सेसड़क मार्ग सेनैनीताल की ओरखुरपताल जाती है, कालाढूंगी संग्रहालय कॉर्बेट नेशनलपार्क के दौरेके दौरान घूमनेलायक जगह है। 

कॉर्बेट संग्रहालय जिम कॉर्बेटके एक विरासतबंगले में है, जिसमें व्यक्तिगत लेख, चित्र, रेखाचित्र, पांडुलिपियां, उनके द्वारालिखे गए पत्र, प्राचीन वस्तुएं, दुर्लभ तस्वीरेंऔर इसके मालिकके अंतिम शिकारको प्रदर्शित कियागया है। पूरासंग्रहालय एक ऐतिहासिकस्थल है जोजिम कॉर्बेट केजीवन में अंतर्दृष्टिदेता है। 

प्रवेशशुल्क (भारतीयों के लिए प्रति व्यक्ति 10.00 रु विदेशी पर्यटकों के लिए प्रति व्यक्ति 50.00 रु और छात्रों के लिए 3.00 रु प्रति व्यक्ति (वैध आईडी कार्ड के साथ)) समय(सुबह 7.00 बजे सेशाम 6.00 बजे, रविवारबंद)

5: कालागढ़बांध

हिमालयन गोट
हिमालयन गोट

कॉर्बेट नेशनल पार्क केदक्षिणपश्चिम की ओरस्थित कालागढ़ डैमक्षेत्र में सबसेअच्छे स्थानों मेंसे एक हैजो किसी पक्षीको देखना पसंदकरता है। इसबांध ने 1970 केदशक में इसक्षेत्र की पारिस्थितिकप्रणाली के साथकहर बरपाया था, लेकिन अब सर्दियोंमें बड़ी संख्यामें प्रवासी जलपक्षीआकर्षित होते हैं।पास में कईखूबसूरत मार्ग भी हैं, जो प्राकृतिक परिवेशका एक शानदारदृश्य प्रदान करतेहैं।

6: सीताबनी/ सीतावनी

सीताबनी मंदिर
सीताबनी मंदिर

यह स्थान रामायण सेजुड़ा हुआ हैऔर माना जाताहै कि सीताबानीवह स्थान हैजहां सीता कोराम ने निर्वासितकिया था। यहपक्षी देखने वालेके लिए एकपरम स्वर्ग हैऔर यहां एकआश्रम भी है।ऐसा माना जाताहै कि रामायणके नायक, सीता, अग्निपीकरन प्रकरण के दौरानअपने निर्वासन मेंफंसे हुए थे।सीताबनी एक बर्डवॉचर्सका स्वर्ग औरजंगल में दूरएक आश्रम है। 

कॉर्बेट में पर्यटकसीजन के दौरानपैंथर्स और अन्यवन्यजीव कूड़े से भरेहोते हैं। सीताबनीजंगल के अंदरगहरी है औरएएसआईभारतीय पुरातत्व सर्वेक्षणके अधीन है।यहां प्राचीन वाल्मीकिमंदिर भी स्थितहै। इस जंगलमें बाघ, हाथी, हिरण, सांभर, भौंकनेवाले हिरण, किंगकोबरा और बहुतकुछ जैसे वन्यजीवहैं।

7: ढिकाला

ढिकाला कॉर्बेट नेशनल पार्क
ढिकाला

ढिकाला कॉर्बेट नेशनल पार्कमें सबसे लोकप्रियऔर प्रसिद्ध दर्शनीयस्थलों में सेएक है। रामनगरके उत्तरपश्चिममें लगभग 40 किमीकी दूरी परपाटलिदुन घाटी केकिनारे स्थित है। इसघाटी से होकरकई चैनलों मेंरामगंगा नदी बहतीहै। 

ढिकाला कोसबसे बड़े घासके मैदान (ढिकालाचौर) में सेएक के रूपमें जाना जाताहै, पर्यटक बैकड्रॉप में कांडारिज के साथघाटी के एकभयानक निर्बाध मनोरमदृश्य को देखनेका आनंद लेसकते हैं। ढिकालाकॉर्बेट पार्क के धनगढ़ीगेट के माध्यमसे पहुँचा जासकता है, लेकिनउन लोगों केलिए खुला नहींहै जिनके पासवन लॉजेस मेंसे एक मेंरात भर रहनेकी अनुमति है, केवल एक दिनकी यात्रा कीअनुमति है। 

इसकेपास के वॉचटावरसे इसका भयानकदृश्य देख सकतेहैं। जंगली जानवरोंके हाथियों, चीतल, हॉग हिरण औरकई घास केमैदानों की प्रजातियोंऔर रैप्टरों केदृश्य के साथकई चालों केमाध्यम से चलनेया ड्राइव करनेके लिए पुरस्कृतकिया जाता है।ढिकाला में पुरानाविश्राम गृह एकऐतिहासिक संरचना है, जिसेसौ साल पहलेबनाया गया था।

8: गेटथियो

चित्तीदार हिरण
चित्तीदार हिरण

गेट्थरियो, सांबर ट्रेल केपास खिन्नानौली केपश्चिम की ओरस्थित नदी कानाम है। गेट्थरियोतक पहुंचने केलिए आपको साम्भरट्रेल से 200 गजकी दूरी परस्थित कांटे वालेरास्ते का अधिकारलेना चाहिए। यहशुष्क भूमि औरचट्टानी नदी काएक विशाल खंडहै, जो मौसमीधारा के पानीसे भर जाताहै। गेट्थरियो मेंबाघों और हाथियोंको देखने कीउच्च संभावना है।

9: मगरमच्छपूल

मगरमच्छ पूल
मगरमच्छ पूल
मगरमच्छ पूल मगरमच्छोंऔर कई अन्यसरीसृप प्रजातियों का एकप्रजनन क्षेत्र है, यहकॉर्बेट पार्क में साफताजा पानी कापूल है। यहहाथी सफारी मार्गको गिराने केलिए होता हैऔर वन्यजीवों केशौकीनों और पर्यटकोंके लिए ज़रूरीस्थान है। यहपूल के पश्चिममें गेराल सेदूसरे रेस्ट हाउसतक शॉर्ट कटरास्ते पर स्थितहै। 

यह दृश्यबालकनी के साथप्राकृतिक निर्माण की तरहदिख रहा है, जो मगरमच्छों द्वाराबसे हुए पूलको उन्नत रूपप्रदान करता है।पूल के भीतरऔर पानी केभीतर मगरमच्छों कीदृष्टि ध्यान को पकड़नेऔर डरावना दोनोंहै। पूल मेंकई मगर्स, महासेरकार्प और विशालकैटफ़िश भी हैं।

10: भाखरकोट

कोशी नदी
कोशी 

कॉर्बेट टाइगर रिज़र्व सेसटे एक छोटेसे गाँव मेंघाटी को करीबसे रहने औरअनुभव करने काएक अवसर नहींहै। गाँव काअधिकांश हिस्सा कॉर्बेट टाइगररिज़र्व के अंतर्गतआता है औरइसके आसपास केतेंदुओं और जंगलीकुत्तों को देखनेके लिए प्रसिद्धहै। भाखरकोट गाँवकई होम स्टेविकल्प प्रदान करता हैजो निश्चित रूपसे आपको एकसुस्त भावना केसाथ रहेंगे।

11: माउंटेनसाइकिलिंग

मंकी इन जिम कॉर्बेट
मंकी इन जिम कॉर्बेट 

पहाड़ी बाइक परखोज के लिएतलहटी और जंगलकी पटरियाँ / धाराएँएक बहुत हीरोमांचक क्षेत्र है।

12: कोसी में मज़ा

कोशी नदी
कोसी
शिविर के सामनेकी बड़ी धारानदी के पारएक बहुत हीरोमांचक रस्सी का पुलबनाती है।

13: गुफा खोज

गुफा
गुफा

जंगल में बहुतसारी रहस्यमयी गुफाएँहैं, जिनका पतालगाया जा रहाहै। Kyari शीर्ष ट्रेकिंग एकछोटी सी पहाड़ीपर चढ़ने केलिए आसपास केक्षेत्रों के पक्षीके दृश्य कोप्राप्त करते हैं।सूर्यास्त देखने के लिएएक शानदार जगह।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कमें गतिविधियाँ


जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कमें तीन सफ़ारीपेश की जातीहैं जीपसफारी, एलीफेंट सफारी औरकैंटर सफारी।

जिम कॉर्बेट में एलिफेंटसफारी

एलीफेंट सफारी
एलीफेंट सफारी

एलीफेंट सफारी जंगल कादौरा करने काअधिक पारंपरिक औरसाहसिक तरीका है। जानवरकी ऊंचाई सुनिश्चितकरती है किआपको जंगली काएक व्यापक दृश्यमिलता है, औरआपको बाघ केविचलित होने कीसंभावना कम है! कॉर्बेट नेशनल पार्क कीयात्रा एक हाथीसफारी के बिनाअधूरी है, कॉर्बेटमें, एक हाथीउन जगहों परजा सकता हैजहां एक जीपनहीं जा सकती। 

हाथी पर, आपघने जंगलों, घाटियोंऔर राष्ट्रीय उद्यानकी ऊबड़खाबड़पगडंडियों में जासकते हैं औरजानवरों को परेशानकिए बिना बहुतही बंद वन्यजीवप्राप्त कर सकतेहैं। कॉर्बेट में, हाथी सफारी कोदिन में दोबार सुबह औरदोपहर में व्यवस्थितकिया जाता है।
सुबह हमेशा जागने कीशुरुआत के साथनाश्ते के बादशुरू होता है।हाथियों को रस्सी, घास और कपाससे बने गद्दे, लकड़ी से बनेकाठी के कपड़ेपहनाए जाते हैं।हाथी 3-4 किमी प्रतिघंटा तक कवरकरते हैंइसलिएकिसी के पासअवलोकन का बहुतसमय होता हैऔर आपके दूरबीनया कैमरों काउपयोग करने केलिए महावत कोजितनी बार चाहेंउतनी बार रोकाजा सकता है। 

हाथी पानी कीदृष्टि से प्यारकरते हैं औरइंतजार नहीं करसकते हैं औरनहाया हुआ हैऔर मस्ती मेंशामिल होने केलिए आपका स्वागतहै। सफारी वन्यजीव, टाइगर ट्रेसिंग, बर्डवॉचिंग, विलेज विजिट, क्षेत्रके विभिन्न जनजातियोंके दौरे, कुछका नाम लेनेके लिए हाथीकी सवारी करनासीखना है।
कुछ जानवर जिन्हें देखाजा सकता हैवे हैं हाथी, बार्किंग हिरण, सांभर, चित्तीदारहिरण, घोरल (पर्वतबकरी), रीसस औरलंगूर बंदर, जैकल, सिवेट, जंगली सूअर, पोरलाइन, आदि। दुर्लभ लोगोंमें बंगाल टाइगर, तेंदुआ और तेंदुआशामिल हैं। कमबिल्लियों, हॉग हिरण, स्लॉथ और हिमालयनकाले भालू काप्रसार। 

मुग्गर या पानीमगरमच्छ, घड़ियाल, ओटर्स, कछुएऔर मछलियों काएक प्रसार (महासीर, गोनोक, ट्राउट, आदि) रामगंगानदी के आसपासऔर आसपास देखाजाता है। सरीसृपप्रजातियों में मॉनिटरछिपकली, किंग कोबरा, अजगर आदि शामिलहैं।

जिम कॉर्बेट में जीपसफारी

जीप सफारी
जीप सफारी

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कका आनंद लेनेका यह त्वरितऔर सुकून भरारास्ता है। यदिआपके पास एकसमय का प्रतिबंधहै, तो एकजीप सफारी कॉर्बिनइंटरनेशनल पार्क के शानदारप्राकृतिक विस्तारों को देखनेका विकल्प है।यह उन स्थलोंऔर ध्वनियों तकआसान पहुंच प्रदानकरता है जोपार्क को भारतसे ही नहींबल्कि पूरे विश्वसे हर सालइतने सारे पर्यटकोंके लिए एकलोकप्रिय गंतव्य बनाते हैं। 

विशिष्ट पर्यावरणविद, प्रकृतिवादी और गाइडभी पर्यटकों केसाथ हर अनुरक्षणमें शामिल होतेहैं। कॉर्बेट नेशनलपार्क का अनुभवकरने के लिएएक जीप सफारीवास्तव में एकविश्वसनीय तरीका है, जबकिपार्क में शानदारस्थलों और ध्वनियोंका सामना करनेके लिए सुरक्षितहोने के बावजूदसुरक्षित है।

कॉर्बेट नेशनल पार्क मेंकैंटर सफारी

कैंटर सफारी
कैंटर सफारी

कैंटर सफारी, ढिकालाराष्ट्रीयउद्यान के केंद्रमें जाने काएक ही रास्ताहै और उसीदिन के भीतरवापस आते हैं, जब दिन केसमय में घिकालाक्षेत्र में जिप्सीद्वारा यात्रा करने कीअनुमति नहीं है।यदि आप अकेलेयात्रा कर रहेहैं तो यहजीप सफारी सेभी कम किफायतीहै। 

कैंटर 18 यात्रियोंको लेता हैऔर क्रमशः सुबहऔर दोपहर मेंरामनगर से शुरूहोता है। जिसकैंटर ने सुबहके भीतर ढिकालाका दौरा किया, वह दोपहर मेंनीचे की ओरलौटता है, उसीतरह दोपहर काकैंटर शाम कोवापस नीचे आताहै। इन पर्यटनको रामगंगा केरूप में आयोजितकिया जाता हैऔर कॉर्बेट टाइगररिजर्व द्वारा अनुमति दीजाती है।

जिम कॉर्बेट में बर्डवॉच

बर्डवॉच
बर्डवॉच

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कएक बर्डवॉचर्स कासपनाजिंदा है।यह अपने अविफ़ुनामें आश्चर्यजनकरूप में समृद्धहै; जूलॉजिकल सर्वेऑफ इंडिया द्वाराकिए गए एकसर्वेक्षण के अनुसार, कॉर्बेट पक्षियों की 585 विभिन्नप्रजातियों का घरहै, उनमें सेकई दुर्लभ औरलुप्तप्राय हैं, कॉर्बेटपार्क में औरउसके आसपास दर्जकिए गए हैं। 

कई जल निकायपक्षियों के लिएएक आदर्श आवासप्रदान करते हैंजो प्रवासी हैं।पार्क उच्च ऊंचाईवाले क्षेत्रों, मैदानोंऔर पूर्वी औरपश्चिमी क्षेत्रों से एवियनप्रजातियों के लिएएक प्राकृतिक चौराहाऔर बैठक कामैदान बनाता है।इस अद्वितीय स्थानके कारण, पक्षीकी आबादी पूरेवर्ष में बहुतअधिक है, सर्दियोंके आगंतुकों, गर्मियोंके आगंतुकों, Altitudinal प्रवासियों, मार्ग प्रवासियों औरमूल प्रवासियों केसाथ। 
उल्लू
उल्लू 
पार्क एककट्टर पक्षी विहारका गंतव्य है।इस क्षेत्र मेंजाने के लिएनिदेशक, कॉर्बेट टाइगर रिजर्वद्वारा अनुमति दी जातीहै। सीमित वाहनों(25-30) को सुबह केदौरान यात्रा करनेकी अनुमति हैऔर शाम कोघंटों में एकही संख्या मेंवाहनों की अनुमतिहै। सुबह कीसफारी के लिएअग्रिम बुकिंग आवश्यक हैऔर शाम कीसफारी के लिएपहले आओ पहलेपाओ के आधारपर स्पॉट दिएगए हैं।

रामगंगा कंडक्टेड टूर


ढिकला कैंटर सफारी केरूप में भीजाना जाता है, जो 18 यात्रियों कोले जाती हैऔर क्रमशः सुबहऔर दोपहर मेंरामनगर से शुरूहोती है। इनटूर को रामगंगाकंडक्टेड टूर कहाजाता है औरकॉर्बेट टाइगर रिजर्व द्वाराअनुमति दी जातीहै।

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कमें करने केलिए सुझाई गईगतिविधियाँ


· मॉर्निंगजंगल जीप सफारी
· ईवनिंगजंगल जीप सफारी
· फुलडे कैंटर सफारी
· हाथीकी सफारी
· कॉर्बेटफॉल का दौरा
· मगरमच्छपूल पर जाएँ
· विलेजइको ट्रिप्स
· धांगरीकॉर्बेट संग्रहालय का दौरा
. जिम कॉर्बेट हाउस कादौरा
· बियरिंगभ्रमण
· रामगंगाऔर कोसी मेंकोण
· रातमें बोनफायर
. हॉर्स सफारी
· कॉर्बेटमें रिवर राफ्टिंग
· कॉर्बेटमें प्रकृति चलताहै
· शामको वन्यजीव फिल्में
. सांस्कृतिककार्यक्रम
· बाहरखेले जाने वालेखेल
· लादुगढ़जलप्रपात
· नदीमें डे पिकनिक
· रात्रिजीप सफारी सेसीताबनी

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्कमें तीन अच्छीतरह से परिभाषितमौसम हैं


सर्दी: नवंबर से फरवरी
ग्रीष्म: मार्च से जून
मानसून: जुलाई से अक्टूबर
स्थानीय जीपों को राष्ट्रीयउद्यान कार्यालय रामनगर सेकिराए पर लियाजा सकता है।आप उस होटलसे भी पूछसकते हैं जिसकेसाथ आप उसकेलिए व्यवस्था कररहे हैं। हाथीसफारी के लिएउपलब्ध हैं। कॉर्बेटराष्ट्रीय उद्यान केवल भारतही नहीं, बल्किपूरे विश्व सेपर्यटकों को आकर्षितकरता है

जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क कैसे पहुंचे 


हवाई मार्गसे जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क


पंतनगर हवाई अड्डारामनगर से 80 किमी कीदूरी पर स्थितहै। हवाई अड्डेसे कॉर्बेट / रामनगरके लिए टैक्सीसेवाएं उपलब्ध हैं।

सड़क मार्गसे जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क


दिल्ली रामनगर से लगभग260 किमी दूर है।सड़कें अच्छी स्थिति मेंहैं। बस मुरादाबादबाईपास पर ड्राइवकरें। फिर, रामगंगापर पुल केबाद, बाएं मोड़को काशीपुर रोडपर ले जाएं।देहला नदी कोपार करें औररिजर्व को घेरनेवाली सड़क काअनुसरण करें, अमांडा औरगर्जिया द्वार को पारकरते हुए मुख्यप्रवेश द्वार धनगढ़ी पहुंचनेसे पहले पार्कके अंदर आगेबढ़ें। कॉर्बेट नेचर पार्कमें यहाँ एकबाएँ मुड़ें। आईएसबीटीआनंद विहार, दिल्लीसे रामनगर केलिए नियमित बससेवा उपलब्ध है

ट्रेन से जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क


रामनगर रेलवे स्टेशन कॉर्बेटटाइगर रिज़र्व कानिकटतम रेलवे स्टेशन है, एक ट्रेन “RANIKHET EXPRESS” पुरानी दिल्ली रेलवेस्टेशन प्रस्थान करती हैऔर सुबह रामनगरपहुँचती है। रामनगरसे ढिकुली केलिए टैक्सी की सुविधा उपलब्ध है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *